X
खेल  शतरंज का

खेल शतरंज का

261 views Save

चलो शतरंज आजमाते हैं

मुझे पता है कि तुम माहिर हो उसमे

तुम रानी बनना मैं प्यादे सा एक नन्हा परिंदा बनता हूं

तुम मनचाही दौड़ लगाना मै सफीने पे बैठता हूं


तुम बहती जाना मै समर्पण का इंतजार करूंगा 

तुम शय और मात के खेल में फसती जाना

मै किनारे से तेरा सदका करूंगा 

तुम नाव की धारा बनना

मै मांझी सा पतवार नचाऊंगा

मैं बेसहारों का सहारा बनूंगा 


तुम आड़े तिरछी दौड़ लगाना

मै छद्म परिंदा नन्हा सा 

तुम सहजादे की मल्लिका बन जाना

मै बिखर जाऊं कभी भी,

मै सीढ़ी धाल बनूंगा

तुम  कोसों बहती जाना

मै बंजारों सा साजर सजाऊंगा 


तुम कोष को में खिलती जाना

मै शून्य इकाई सा अंक बनूंगा

तुम खुली शीर्ष दरिया सी बहती जाना 

मैं केश केश में गजरे सा घुल जाऊंगा

तुम धरी धराई बाँसुरिया बन जाना

मै बिरजू सा मतवाला बन जाऊंगा


तुम बस जाना मछलियों के अवेगों

मै नागफनियों की पंखुड़ियां बन जाऊंगा

मैं खामोशियों का विषय बनूंगा 

तुम एक कविता सुनहरी बन जाना

मैं बेसुध गीत चुरा लूंगा

मैं बागियों का विस्तार करूंगा

तुम उसका एक परिंदा बन जाना

मैं आठों दौर लगाऊंगा ,


तुम मेरे हिस्से का एक हिस्सा ज़िंदा बन जाना

जब कभी भी रुखसत हो नाम मेरा 

तो सबकी नज़रों में तुम एक कहानी चुनिंदा बन  जाना

Click here to download this poem as an image



Subham Rai

Personally, i am an engineer who tends towards literature love to write vivid streams of poetry/story

261 views

Recent Articles