X
पश्चिम में आज सूर्य उदित हुआ था | 9/11 को शिकागो में विवेकानंद द्वारा दिया गया भाषण पर आधारित कविता

पश्चिम में आज सूर्य उदित हुआ था | 9/11 को शिकागो में विवेकानंद द्वारा दिया गया भाषण पर आधारित कविता

152 views Save

पश्चिम में आज सूर्य उदित हुआ था

तेजोमय ललाट लिए एक युवा मंचासित हुआ था

उसकी कांति से आज वो सभा प्रकाशित थी

उन तेजोमय नेत्रों को देख विश्वगुरुओं की आत्मा भी अचंभित थी

 

कुछ विद्वान उसके पहनावे का मज़ाक ज़रूर बना रहे थे

ये क्या बोलेगा आज यहाँ !!!!! सोच वे ऐसा मंद- मंद मुस्कुरा रहे थे

अभी तो इसके दूध के दांत भी नहीं टूटे होंगे

शब्दकोष में इसके अभी कुछ ही वाक्या तो सिमटे होंगे

 

हवा के झोके हिमालय डिगा नहीं पाते है

गज चलता है मदमस्त हो कर श्वान भोक कर निकल जाते है

अपमान से उसका आत्मविश्वास कहा हिलने वाला था

वो मुर्ख क्या जाने विश्व को एक नया गुरु मिलने वाला था

दृढ़ता लिए बैठा था वो ऐसा ज्ञानी था

चमक रहा था सूर्य सा वो उसके तेज न कोई सानी था

 

अब बारी आयी उसकी !!!! सुनने उसे हर किसी के मन में जिज्ञासा थी

उस युवान की वाणी सुनाने हर व्यक्ति को कर्ण-पिपासा थी

उठा वो ऐसे !!!! चला ऐसे तनकर

निर्भय !!! निर्द्वन्द !!! सिंह चलता हो जैसे जंगल में इतराकर

पर ये क्या !!!! मंच पर पहुंच वो तो शांत था

क्यों कुछ न बोला उसने !!! क्या उसका मन कुछ क्लांत था

 

कुछ ही क्षण बीते होंगे !!!!! सन्नाटे तो चीरते उसने अपना व्यख्यान किया प्रारम्भ था

धाराप्रवाह वाणी से उसने भंग किया उन रूढ़िवादियों का दम्भ था

उसके शब्दों ने एक नया इतिहास गढ़ा था

उसके विवेक के दम पर आज फिर भारत विश्व गुरु बन खड़ा था

वसुधेव कुटुंबकम का सन्देश आज विश्व ने पाया था

उस युवान ने भारत को फिर वही स्वर्णिम युग याद दिलाया था

 

सर पर फेटा बांधे न सही !!! ऐसे ही आओ

हे स्वामी !!! वो राष्ट्र भक्ति की अलख फिर जगाओ

भगवा धारी न बनो !!! तुम वही सादी पोशाक में आओ

हे स्वामी !!! इस देश के युवा को सही पथ तुम दिखलाओ

परमहंस तो नहीं मिलेंगे अब !!! तुम अकेले ही चले आओ

भारत माँ पुकार रही है तुम्हे !!! विवेकानंद तुम वापस आओ


                                                                                                                                                           

 Click here to download this poem as an image


Tushar Dubey

एक आवाज़ हूँ!!!!!!! तुम्हे जगाने आया हूँ

152 views

Recent Articles